क्या आप को पता है कि Computer का CPC क्या है तो इस पोस्ट में हम आपको CPC क्या है और CPU का Full Form, CPU कितने प्रकार के होते हैं, CPU काम कैसे करता है  इस के बारे मैं पूरी जानकारी देंगे। तो चलिए शुरू करें…

CPU Computer का एक महत्वपूर्ण Part होता है. जिसके बिना Computer अपना कार्य नही कर सकती हैं.

“CPC का  Full Form – Central Processing Unit”  एक ऐसा Unit है जो Computer के अंदर से होने वाले सभी process को पूरा करता है. ये Computer के एक भाग से दूसरे भाग तक Instructions के flow को (control) नियंत्रित करता है.  CPU का काम एक chipset पर निर्भर करता है जो motherboard में स्थित छोटे छोटे chips का एक group है. CPU Computer से जुडे सभी Hardwares और Softwares से प्राप्त निर्देशों को संभालता हैं. और Input Devices से प्राप्त Instructions और डाटा को प्राप्त करता हैं, उसे Process करता हैं और परिणाम देता है.

का सारा काम एक chipset पर निर्भर करता है जो motherboard में स्थित छोटे छोटे chips का एक group है. CPU Computer से जुडे सभी Hardwares और Softwares से प्राप्त निर्देशों को संभालता हैं. और Input Devices से प्राप्त Instructions और डाटा को प्राप्त करता हैं, उसे Process करता हैं और परिणाम देता है.

Central Processing Unit (CPU) कैसे काम करता है

यह बहुत important है इस के बारे मै जानना बहुत जरुरी है CPU क्या काम करता है. हम ये जानते ही हैं की CPU जो कार्य करता है तो बहुत ही important होते हैं अब हम जानेंगे की कैसे ये CPU काम करती है. CPU के Origin अभी तक इसमें ऐसे बहुत सारे improvements किया गए है पिछले कई बर्षों में.

Computer free royality image download

इतने सारे improvements के available भी CPU के जो basic function हैं वो अभी तक भी same है. इसकी जो basic function हैं वो हैं fetch, decode, और execute. चलिए इनके बारे में भी जानते हैं.

Fetch

इह स्टेप में Program Memory से instruction receive किये जाते हैं. Instruction का मतलब numbers, series of numbers. Instruction बहुत सारे होते हैं लेकिन कैसे पता चलता है की कौन सा instruction किस location में है? तो इसलिए एक Program counter (PC) होता है जो प्रोग्राम मेमोरी में  instruction के address(लोकेशन) को निर्धारित करता है.

तो Program Counter instruction के address को number के रूप में स्टोर कर के रखता है. जब एक instruction fetch यानि receive कर लिया जाता है फिर PC और instructions को Instruction Register (IR) में place किया जाता है. उसके After PC length को बढाया जाता है जिससे उसे reference किया जा सके next instruction’s address पर. तो कार्यक्रम Counter के length को instruction की लम्बाई के अनुसार बढ़ा दिया जाता है ताकि वो अगले instruction का address रख ले.

Decode

एक बार Momory से जो instruction को fetch और store कर लिया जाता है IR में, फिर CPU उसे instruction को pass कर देती है एक ऐसी circuit में जिसे की instruction decoder कहते हैं. यह फिर उस instruction को convert करती है signals में जो की बाद में pass किया जाता है जिससे CPU के दूसरे Parts को Control किया जाता है.

Execute

Instruction लाने और उसे signal में convert कर लेने के बाद तीसरा Step होता है execute. CPU के Texture के अनुसार execute में एक action या फिर कई action हो सकते हैं. इस डीकोड अनुदेश को CPU relavent parts तक भेजती है जिससे वो पार्ट्स instruction  के आधार पर अपना काम कर सके. इस तरह एक action या action की series को complete कर लिया जाता है. उसके बाद ही results को internal CPU register में write कर लिया जाता है. इससे बाद वाले instruction के लिए reference तैयार हो जाता है.

Also Read:- AC Kya Hai? AC Ka Full Form? AC Ke Fayde Aur Nuksan Kya Hai

अगर आपको ये पोस्ट अच्छी लगी हो तो Comment जरूर करें।  CPU के बारे में जानकारी की इच्छा लागा है तो  इस पोस्ट को ये post को दोस्तों को जरूर शेयर करें